मामा शिवराज ने धोए भांजी के पैर, आदिवासी के घर खाया खाना

बैतूल{मयंक भार्गव }मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान बैतूल के गाँव बेलकुण्ड में साधारण कार्यकर्ता बनकर पहुंचे । शिवराज का हेलीकॉप्टर बेलकुण्ड के हेलीपैड पर उतरा उन्होंने यहाँ मौजूद कार्यकर्ताओं का अभिवादन किया। हेलीपैड से शिवराज बेलकुण्ड ढाना पहुंचे इस दौरान उन्होंने घर घर जाकर दीनदयाल जी के पत्रकों का वितरण किया और घरों में स्टिकर चिपकाएं। लोगों से मिलने के दौरान शिवराज एक घर में रुके और उन्होंने घर के दरवाजे चौखट पर बैठकर ग्रामीण महिलाओं की समस्या सुनी तभी वहां एक बालिका आरती की थाल लेकर उनके स्वागत के लिए पहुंची तो शिवराज ने उस बालिका को रोककर पहले उसके पैर धोए और बालिका के पैर छुए। मुख्यमंत्री ने इस कार्यक्रम में एक साधारण कार्यकर्ता की हैसियत से पहुचें और समयदान किया ।

उन्होंने बेलकुण्ड गांव में बूथ समिति की बैठक ली, इसके बाद मंडल कार्यकारिणी बैठक ली। मुख्यमंत्री इस बैठक के बाद जिला पदाधिकारी, स्थायी आमंत्रित सदस्य और मंडल प्रभारियों को बैठक भी ली । सबसे खास यह है कि वे आदिवासी मोतीराम टाण्डिलकर के घर गए और उन्होंने यहां खाना खाया। खाने में उन्हें आलू भटे की सब्जी, बाजरे की रोटी, दाल चावल और टमाटर की चटनी खाई।
दीनदयाल जी ने कहा था दरिद्र ही नारायण है, भगवान है उसकी सेवा करो: सीएम शिवराज …
बैतूल ।।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह हेलीकाप्टर से भैसदेही विधानसभा के आदिवासी गांव बेलकुण्ड पहुचे वे आज भाजपा के पार्टी के लिए समय दान करने के लिए आये थे।उन्होंने 50 से ज्यादा आदिवासियों के घरों में दीनदयाल जी के फोटो युक्त पोस्टर दीवारों पर लगाये ।उन्होंने यहाँ एक सभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि पहले दो दिनों तक भाजपा का हर कार्यकर्ता गांव गांव और घर घर जाकर सेवा भावना से काम करेगा और पार्टी की योजना सरकार की योजना बताएंगे ।श्री सिंह ने कहा कि पंडित दीनदयाल जी ने कहा है कि दरिद्र ही नारायण है भगवान है इसलिये यह तय किया है कि गरीबो के घर घर जाकर उनकी समस्या का निराकरण किया जा रहा है। श्री सिंह ने कहा कि सरकार ने कानून बना दिया है और अब कोई भी बिना जमीन के नही रहेगा ।गरीबी की नई परिभाषा बताते हुए उन्होंने कहा कि जिन लोगो के पास ट्रेक्टर चार पहिया वाहन और पक्का मकान होगा और सरकारी नौकरी में हो तो उसे गरीब नही माना जायेगा।सरकारी में उन्होंने कहा कि आंगनवाड़ी कार्यकर्ता और आशा कार्यकर्ताओं को भी गरीब माना जायेगा उन्हें भी सरकारी योजनाओं का लाभ मकान और जमीन का पट्टा दिया जाएगा।शिक्षित युवाओ को भी अब स्वरोजगार करने के लिए कर्ज दिया जाएगा और सरकार बैंक गारंटी लेगी।