आखिर क्यों पकड़ी गई शासकीय बिल्डिंग में अवैध शराब ?

 दमोह – मध्य प्रदेश के दमोह जिला जहां पर विकास के नए नए आयाम रोज नए नए तरीके से देखने को मिल रहे कभी शासकीय भवन में किराने की दुकान चलती मिलती है तो आज एक शिक्षा के मंदिर में नशे का अवैध कारोबार भगवती मानव कल्याण संगठन के सदस्यों ने पकड़वाया है मौके पर  पुलिस भी  संगठन के कार्यकर्ताओं की सूचना पर पहुंची। जानकारी के अनुसार यहां पर महीनों से अवैध शराब का कारोबार चल रहा था हम बात कर रहे हैं पथरिया के मिडिल स्कूल के अतिरिक्त कक्ष की जहां पर लंबे समय से यह अवैध शराब का कारोबार चलता था लेकिन आज भगवती मानव कल्याण संगठन के सदस्यों ने वहां पर छापामार कार्यवाही कर करीब 36 पाव अवैध शराब पुलिस को सूचना देकर पकड़ाई आरोपी मौके से फरार हो गया संगठन के कार्यकर्ताओं ने जानकारी देते हुए बताया कि आरोपी सोमेश खटीक यहां यह अवैध शराब बेचता था लेकिन वह मौके से फरार हो गया जब हमारी मीडिया की टीम वहां पर पहुंची तो उस भवन में कुर्सियां,  पानी, बेसबाल के डंडे और भी अन्य सामग्री वहां पर रखी हुई थी जो यह दर्शा रही थी कि यह जुआरियों और शराबियों का अड्डा बन गया है l

इस संबंध में जब बीआरसी धर्मेंद्र चौबे से बात की तो उन्होंने कहा कि कल ही इस संबंध में जांच कर कार्यवाही की जाएगी और यह जांच भी की जाएगी कि आखिर इस भवन में विभाग द्वारा ताला क्यों नहीं डाला था और शिक्षकों को अब तक जानकारी क्यों नहीं थी वह यदि जानकारी थी तो कार्यवाही क्यों नहीं की गई। 

वही नगर में यह चर्चा का विषय बना हुआ है कि जब इतने समय से इसका शासकीय भवन में शराब का कारोबार चल रहा था तो क्या पुलिस को जानकारी नहीं थी ? और यदि जानकारी थी

तो अभी तक पकड़ी क्यों नहीं गई और जब संगठन के लोगों ने यह अवैध शराब पकड़ी तो तत्काल पुलिस क्यों पहुंच गई ? नगर के बुद्धिजीवी वर्ग द्वारा अंदाजा लगाया जा रहा है कि पुलिस सेवा शुल्क के चक्कर में अभी तक यह अवैध शराब नहीं पकड़ रही थी ?

पथरिया से सुरेश नामदेव