विद्यालय परिसर में बीचोंबीच लगी विधुत डीपी से छात्र छात्राओं की जान को खतरा?

प्राचार्य द्वारा कई बार शिकायत किये जाने के बाद भी नहीं जागा विधुत विभाग

 दमोह-हटा – मुख्यालय से कुछ ही किलोमीटर की दुरी पर स्थित ग्राम सोजना के शासकीय हाईस्कूल के बीच मैदान में बड़ी लाइन की विधुत डीपी लगी होने से विद्यालय में पढ़ने वाले छात्र छात्राओं को हर समय जान का खतरा बना रहता है। बीच मैदान में लगी डीपी को हटाने के लिए स्कूल प्रबंधन पुरजोर प्रयास कर चुका है पर विधुत विभाग के अधिकारियों को शायद किसी अनहोनी घटना या हादसे का इंतजार है । विद्यालय के प्राचार्य पी एल अहिरवार ने बताया कि हमारे द्वारा विगत 2 वर्षों से विद्यालय परिसर से डीपी हटाने के लिए विधुत

विभाग के उच्चाधिकारियों को लिखित तथा मौखिक रूप से शिकायत की गई है परंतु आज दिनाँक तक इस सम्बन्ध में विधुत विभाग के द्वारा कोई भी कार्यवाही नहीं की गई। साथ ही उन्होंने बताया कि परिसर में विधुत डीपी लगी होने की वजह से हम लोगों को भी हर समय छात्र छात्राओं की देखरेख करनी पड़ती है क्योंकि करंट का खतरा रहता है और उन्होंने बताया कि कई बार छात्र छात्राएं डीपी के खम्बों को पकड़ कर खेलते हैं जो बेहद ही खतरनाक है हम सभी कर्मचारी इस डीपी को जल्द से जल्द परिसर से हटाने के लिए प्रयासरत हैं। प्राप्त

जानकारी के अनुसार विधायक उमादेवी के प्रयासों से कुछ ही दिवस पूर्व इसी हाईस्कूल का उन्नयन कर स्कूल को हायर सेकेंडरी स्कूल की सौगात मिली है जिससे समूचे क्षेत्र के बच्चों तथा उनके अभिभावकों में खासी प्रसन्नता देखी जा रही है और नये सत्र में आने वाली 5 जुलाई को स्कूल का शुभारम्भ समारोह भी किया जा रहा है जिसमें सरपंच गणेश पटेल के द्वारा क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि सांसद विधायक तथा जिला पंचायत अध्यक्ष की उपस्थिति की संभावना भी जताई जा रही है। अब देखना यह होगा कि इस शुभारम्भ कार्यक्रम के पहले यह विधुत डीपी हटाई जाती है या नहीं । समाजसेवी सुशील व्यास ने बताया कि प्रबंधन से लेकर छात्र छात्राओं के अभिभावक तक सभी इस समस्या को लेकर गम्भीर हैं तथा इसको हटाने के सभी प्रयास कर रहे हैं पर विधुत विभाग के अधिकारी कर्मचारी बच्चों की जान को ताक पर रखकर जानकर भी अनजान बने हुए हैं तथा कुम्भकर्णीय नींद में सोए हुए है। भगवान ना करे कि उनकी इस लापरवाही का मोल किसी को जान देकर चुकाना पड़े।