Why was it costly to spend perfume on the car, did not you?

कार में परफ्यूम लगाना क्यों महंगा पड़ा,कही आप भी तो नहीं ?                       

फरीदाबाद- कभी कभी अनजाने में और कभी अपने शौकिया लोगों के लिए बड़ी परेशानी का सबब बन जाती हैं ऐसा ही हुआ                       

राजेश के साथ राजेश गुड़गांव निवासी हैं जो मुंबई में एक साबुन की फैक्ट्री के मैनेजर हैं वह अपने व्यवसाय के सिलसिले में गुरुवार को सूरजकुंड के एक होटल में ठहरे हुए थे यहां पर उन्होंने कार में बैठे-बैठे परफ्यूम लगाया और ड्राइविंग करने लगे ड्राइविंग के दौरान चलती हुई कार में उन्होंने अचानक सिगरेट जलाने के लिए लाइटर का

 

उपयोग किया और लाइटर के उपयोग होते ही एक धमाके के साथ कार में आग लग गई और गुड़गांव निवासी राजेश बुरी तरह आग की चपेट में आ गए कार की सीट वगैरा भी जलने लगी और राजेश असंतुलित होकर डिवाइडर से टकराए जिसको देखकर आसपास के लोग उन्हें बचाने पहुंचे और पुलिस की सहायता से उनकी गाड़ी की आग बुझायी और उनके जले हुए कपड़े उतार कर उन्हें तत्काल अस्पताल में भर्ती किया गया ऐसा बताया जाता है कि वह लगभग 60% जल गए हैं और उनका इलाज चल रहा है इस जानकारी के लगते ही उनके परिजन गुड़गांव से फरीदाबाद आ गए हैं और उनके इलाज में सहयोग कर रहे हैं |