शहीद की पत्नी अस्पताल में तड़प तड़प कर मर गई, और अस्पताल मांगता रहा आधार कार्ड

सोनीपत- कारगिल शहीद लक्ष्मण दास की पत्नी शकुंतला ने अस्पताल में तड़प तड़प दम तोड़ दिया लेकिन अस्पताल प्रबंधन उसे बार-बार आधार कार्ड मांगता रहा और बिना आधार कार्ड के इलाज् शुरु नहीं किया जा सकता मां की गंभीर हालत को देखकर बेटे ने अस्पताल प्रबंधन से कई बार याचना की लेकिन मां का इलाज नहीं हो पाया और प्रबंधन किसी भी हाल में मांग मानने को तैयार नहीं था, और बेटा जब तक आधार कार्ड लेने घर लौटा और इसी बीच शहीद की पत्नी का निधन हो गया, इस घटना को लेकर बेटा काफी नाराज है, और् उसने अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ लड़ने की के लिए

कमर कस ली है, बेटा का कहना है कि मां कि तेराव्हि खत्म होने के बाद थाने में शिकायत करेगा, और पुलिस का कहना कि यदि हमें शिकायत मिलती है तो हम कार्यवाही करेंगे इस घटना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है कि शकुंतला को दिल की बीमारी थी बीमारी में सूजन थी और हालत गंभीर थी और अस्पताल प्रबंधन बिना आधार के भर्ती करने से इंकार कर दिया और शहीद का बेटा याच्ना कर्ता रहा, परंतु प्रबंधन ने एक ना सुनी शहीद के बेटे का कहना है कि उसके पास मां के पर्याप्त डॉक्युमेंट थी परंतु अस्पताल प्रबंधन आधार कार्ड के पीछे पड़ा था और वह अपने घर गया तब तक मैं इस दुनिया को छोड़ कर जा चुके थे

मीडिया में आ रही खबरों की मानें तो शहीद बेटे के पास आधार कार्ड की फोटो कॉपी थी परंतु ओरिजिनल आधार कार्ड नहीं था और अस्पताल प्रबंधन ओरिजिनल कार्ड मांग रहा था अब इस मामले में हरियाणा सरकार जांच की बात कर रही है और मुख्यमंत्री कह रहे हैं कि हम इसकी जांच के बाद दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेंगे इसको लेकर हर तरफ से कठोर प्रतिक्रिया व्यक्त की जा रही हैं और इस मामले को लेकर केंद्र सरकार भी हरकत में आई है और स्वास्थ्य मंत्री ने इसकी जांच की बात की है उन्होंने कहा है कि राज्य सरकार को इस में संजिद्गी दिखानी चाहिए ताकि इस तरह की घटनाएं ना हो सके, कारगिल शहीद कैप्टन विजयंत थापर के पिता ने भी बेहद अफसोस जनक बताया है उन्होंने कहा कि हम अलग तरह के इंसान बनते जा रहे हैं ऐसी घटना हमारे सैनिकों के मनोबल को प्रभावित करेंगी ।