लहसुन सब्जी है या मसाला अदालत में पहुंचा मामला ?

न्यूज़ डेस्क जयपुर- जमीन के नीचे उगने वाली लहसुन में बहुत से गुण होते हैं इस में एंटीबायोटिक एंटी फंगल एंटीवायरल केमिकल एलिसन पाए जाते हैं, इसमें पेनिसिलिन ऐसी खूबियां होती है लहसुन का उत्पादन बहुत अधिक मात्रा में होता है, लहसुन खाने से सांस की नली है और मुंह मे उसकी गंध आती है जिस से अलग से मालूम चल जाता किस व्यक्ति ने लहसुन खाया हुआ, अब मामला यह है कि लहसुन मसाला है या सब्जी इसको लेकर विवाद खड़ा हुआ है और राजस्थान हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से पूछा है कि लहसुन सब्जी है या मसाला राजस्थान सरकार के 2016 के नए कानून के मुताबिक लहसुन को अनाज मंडी में जाना चाहिए लेकिन 2016 से पहले इसे सब्जी मंडी में बेचा जाता था, इसे लेकर जोधपुर के आलू प्याज लहसुन उत्पादक राजस्थान हाई कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की और उन्होंने कहा कि वह प्रारंभ से ही लहसुन को सब्जी बाजार में बेचते आ रहे हैं, आखिर अब अनाज मंडी में क्यों बेंचे, आखिर लहसुन को क्या माना जाना चाहिए क्योंकि पिछले कई सालों से लहसुन को सब्जी मंडी में बेंचा जा रहा है और किसी को कोई दिक्कत नहीं हुई और अब सब्जी मंडी की बजाए अनाज मंडी में बेचने से उन्हें नुकसान भी हो रहा है इसलिए लहसुन सब्जियां हैं या मसाला इस पर विवाद शुरू हो गया है|

याचिकाकर्ताओं का कहना है कि सरकार ने लहसुन को सब्जी में मसाला दोनों श्रेणी में रखा हुआ है लेकिन सब्जी के रूप में लहसुन के बेचने पर जीएसटी नहीं लगता और मसाले के रूप में बेचा जाए तो जीएसटी लगता है और ऐसे में असमंजस की स्थिति बनी रहती है इसी को लेकर हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से पूछा कि सरकार स्पष्ट करें कि टैक्स के लिए आज लहसुन सब्जी है या  मसाला अब आगे क्या होता है ,सरकार का क्या जवाब होता है यह देखना होगा|