khule mein shauch jaane vaale ek hee parivaar ke 10 sadasyon par lagaaya 75 hajaar jurmaana

खुले में शौच जाने वाले एक ही परिवार के 10 सदस्यों पर लगाया 75 हजार जुर्माना

 

कार्रवाई: आमला 43 और मुलताई में शौचालय नहीं बनवाने वाले 17 परिवारों को नोटिस जारी

 

बैतूल- स्वच्छ भारत अभियान को साकार करने के लिए अधिकारी और जनप्रतिनिधि अब एड़ीचोटी का जोर लगाने लगे हैं। बैतूल जिले में पहली बार यह देखने में आया है कि खुले में शौच जाने वालों को नोटिस जारी करते हुए उन पर जुर्माना लगाया गया हो। जी हां यह बात थोड़ी अटपटी जरूर लगेगी लेकिन ऐसा ही एक मामला सोमवार को आमला ब्लॉक में सामने आया है। यहां पर एक ही परिवार के 10 सदस्यों पर 75 हजार रुपए का जुर्माना ठोंका गया है तो वहीं मुलताई में शौचालय नहीं बनवाने वाले 17 परिवारों को नोटिस जारी किए गए हैं। आमला जनपद पंचायत द्वारा यह कार्रवाई की गई है तो वहीं मुलताई में नगर परिषद ने स्वच्छता को लेकर कड़ा कदम उठाया है। आमला ब्लॉक की ग्राम पंचायत रंभाखेड़ी में 43 परिवारों को 30 दिन में जुर्माना भरने के आदेश दिए गए हैं, यदि ऐसा नहीं किया जाता है तो कड़ी कार्रवाई की चेतावनी भी दी गई है। इधर जैसे ही जुर्माने की कार्रवाई हुई तो वैसे ही आमला और मुलताई दोनों ही जगह शौचालय निर्माण की गतिविधि शुरू हो गई है।

250 रुपए प्रति सदस्य के हिसाब से भरना होगा 75 हजार

जानकारी के अनुसार आमला ब्लॉक की ग्राम पंचायत रंभाखेड़ी में कुछ परिवारों के सदस्य मना करने के बावजूद खुले में शौच जाने की अपनी आदत नहीं छोड़ रहे थे। समझाइश देने के बावजूद जब वे नहीं माने तो ग्राम पंचायत रंभाखेड़ी के सरंपच सहित ग्राम के प्रमुख जनप्रतिनिधियों ने संयुक्त हस्ताक्षर से एक नोटिस इन परिवारों को दिया। जिसमें मध्यप्रदेश ग्राम पंचायत (स्वच्छता, सफाई तथा न्यूसेंस निवारण तथा उपशमन) नियम 1999 के 15 (1) व 15 (2) के तहत न्यूसेंस के उत्तरदायी होने से कुंवरलाल वल्द दयाराम निवासी रंभाखेड़ी के परिवार के 10 सदस्यों को 250 रुपए प्रति सदस्य प्रतिदिन के हिसाब से कुल 30 दिवस की अधिरोपित कुल जुर्माना राशि 75 हजार रुपए तीन दिन में ग्राम पंचायत में जमा करने का निर्देश दिया गया है। साथ ही यह भी निर्देश दिया गया है कि वे शौचालय निर्माण, उपयोग कर खुले में शौच न्यूसेंस बंद करना सुनिश्चित करें। राशि वसूलने की कार्रवाई कलेक्टर, सीईओ जिला पंचायत को प्रस्तावि की जाएगी और अधिरोपित राशि भू राजस्व की बकाया राशि के तहत वसूली योग्य होगी। नोटिस में बकायदा ग्राम पंचायत रंभाखेड़ी की सरंपच रामरतीबाई, ग्राम रोजगार सहायक, जनपद पंचायत आमला एवं सचिव ग्राम पंचायत रंभाखेड़ी के हस्ताक्षर हैं।

ताबड़तोड़ शुरू करवाया शौचालय निर्माण

रंभाखेड़ी ग्राम पंचायत में खुले में शौच जाने वाले कुंवरलाल के परिवार को 75 हजार रुपए के जुर्माने का नोटिस मिलते ही उन्होंने घर में शौचालय का निमा्रण शुरू कर दिया है। सचिव ग्राम पंचायत रंभाखेड़ी देवाजी भूमरकर ने बताया कि ग्राम के 43 परिवारों को इसी मामल में अलग-अलग जुर्माना राशि के नोटिस जारी किए हैं। नोटिस जारी होते ही अनेक घरों में शौचालयों का ताबड़तोड़ निर्माण जारी हो गया है।

नोटिस जारी किए हैं

 

ग्रामीणों को बीमारी से बचाने और महिलाओं की सुरक्षा के लिए घरों में शौचालय बनाने की समझाइश दी जा रही है। ग्रामों में नोटिस जारी किए हैं और शौचालय निर्माण और उसका उपयोग करने पर जुर्माना कैंसिल किया जाएगा।

– प्रवीण इवने, सीईओ जपं, आमला

इधर मुलताई में खुले में शौच जाने वाले सोनेगांव के 17 ग्रामीणो कों नोटिस 

मुलताई। ब्लॉक की ग्राम पंचायत सोनेगांव को खुले में शौच जाने से मुक्त ग्राम बनाए जाने के लिए सरपंच सहित पंचों द्वारा की जा रही कोशिश पर ग्राम के 17 ग्रामीण ग्रहण लगाने से बाज नहीं आ रहे हैं। तमाम समझाइशों के बावजूद यह 17 ग्रामीण न तो अपने घरों में शौचालय का निर्माण कर रहे हैं न ही खुले में शौच जाने से बाज आ रहे हैं। इस स्थिति में परेशान होकर सरपंच और  सचिव ने एसडीएम को 17 ग्रामीणों की नामजद शिकायत कर कार्रवाई की मांग की है। ग्राम पंचायत सोनेगांव के सरपंच उमेश सूर्यवंशी, सचिव संतोष साहू ने एसडीएम को सौंपी शिकायत में बताया कि ग्राम पंचायत में निवासरत अजबराव, सुमीद राव, रामकिशोर, उमेश, पुत्रीबाई, रामसिंग, छोटे, शिवराम, मंशाराम, विष्णु, पंजाब, अनुसुइया, कन्हैया, सुधीर और संतोष अपने घरों में शौचालय का निर्माण नहीं कर रहे हैं। साथ ही यह लोगों खुले में शौच के लिए जा रहे हैं। इन्हें खुले में शोच नहीं जाने की समझाइश देते हैं तो अपशब्दों का प्रयोग करते हैं। जिससे भविष्य में विवाद की स्थिति निर्मित हो सकती है। शिकायत पर एसडीएम ने खुले में शौच जाने वाले ग्रामीणों के खिलाफ प्रतिबंधात्मक कार्रवाई कर ग्रामीणों को नोटिस जारी किया है।

मयंक भार्गव की रिपोर्ट