If you saw a box in the morning, it seems 10 rupees fine

सुबह हाथ में डिब्बा देखा तो लगता है 10 रूपये जुर्माना                       

कोरबा- भारत सरकार द्वारा स्वछता मिशन के तहत हर जगह स्वच्छ शहर अभियान चल रहा है इसी तारतम्य कोरबा में भी नगर निगम के 70 वार्ड खुले में शौच मुक्त ओडीएफ घोषित किए गए हैं इसके बावजूद भी लोगों की आदत है कि वह मानने का नाम ही नहीं ले रहे हैं और सुबह सुबह अपने रूटीन के अनुसार डब्बे लेकर बाहर शौच के लिए जाते ही है भले ही उनकी संख्या कम हो गई हो इसीलिए अब निगम प्रशासन ने उड़नदस्तों का गठन किया है और वार्डों में सुबह घूमकर ऐसे लोगों को

 

पकड़ते हैं जो खुले में शौच जाते हैं और अपने आदतों से बाज नहीं आते और उन पर 10रूपये का जुर्माना भी लगाया गया है इसके लिए निर्धनों के लिए निशुल्क शौचालय की व्यवस्था है पर वही अन्य वर्गों के लिए सब्सिडी दी गई है शौचालय निर्माण में करोड़ों रुपए खर्च किए गए हैं और जागरूकता में भी बहुत पैसा खर्च किया गया है परंतु अभी भी लोगों में जागरूकता आई नहीं है उनकी आदतों में कोई सुधार ज्यादा हुआ नहीं है और क्या पैसा उस वक्त बेकार साबित होता है जब यह लोग सुबह डब्बा लेकर बाहर निकलते हैं ऐसा अन्य वार्डों में नहीं जो शौचमुक्त खुले में शौच मुक्त घोषित हुए हैं उन वार्ड में भी ऐसे ही कुछ स्थिति है अब उड़नदस्ता टीम इन डब्बे वालों लोगों को रंगे हाथों पकड़ती है और जुर्माना के रूप में 10रूपये वसूलती है क्या एक कार्यक्रम तब तक सफल नहीं होगा जब तक लोगों में पूर्ण रुप से जागरूकता नहीं आ जाएगी |