Aajab Madhya Pradesh’s famous story Rakshabandhan seals seated on the faces of the children who came to meet father in jail

अजब मध्यप्रदेश की गजब कहानी रक्षाबंधन पर जेल में पिता से मिलने पहुंचे बच्चों के चेहरे पर लगाई सील                        

भोपाल- वैसे तो मध्य प्रदेश में कहा जाता है कि अजब मध्य प्रदेश की गजब कहानी है आए दिन होती रहती हैं और जिस की सुर्खियां मीडिया में आती रहती है ऐसा ही एक वाक्य भोपाल सेंट्रल जेल की रक्षा बंधन पर शर्मनाक तस्वीर सामने आई है जहां पर जेल में बंद कैदियों से मिलने के लिए उनके परिजन पहुंचे तो जेल कर्मियों ने रक्षाबंधन के पावन पर्व पर मिलने गए हुए बच्चों के चेहरे पर सील लगा दी है जिसे मैं मोहर भी कहते हैं यह अमानवीय खुलासा होने के बाद प्रशासन विभाग मंत्रालय सकते में हैं और अपने अपने तरीके से कह रहा है कि यह अमानवीय है और इसकी जांच करवाई जाएगी और जो दोषी होंगे उन पर कार्यवाही की जाएगी क्योंकि जेल में कैदियों से मिलने के लिए पहुंचने वाले परिजनों व परिचितों के साथ कुछ पहचान चिन्ह लगाए जाते हैं जिससे की भीड़ का फायदा उठाकर कैदी बाहर न निकल जाए परंतु चेहरे पर सील मोहर लगाने का कोई भी जेल मैनुअल में प्रावधान नहीं है और इस प्रकार की करतूत भोपाल सेंट्रल जेल द्वारा की गई जिसकी की सभी और आलोचना हो रही है |     

 


जब बच्चों के चेहरे पर सील मोहर लगाई गई तो परिजनो मे घटना को लेकर लोगों में काफी रोष व्याप्त था परंतु वह इसलिए चुप रहे कि उन्हें अपने परिजनों के साथ रक्षाबंधन का त्यौहार मनाना था और यदि कुछ ज्यादा हंगामा कर देते तो हो सकता था कि वह इस से बंचित हो जाते इसलिए वह शांत रहे यह मामला बढ़ता नजर आ रहा है और जो भी इसको सुन रहा है तो इसे अनुचित करार दे रहा है |