ईपिक नंबर की सहायता से मतदाताओं को है अनेकों लाभ, घर बैठे करें त्रुटि में सुधार

कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी की
जिले के मतदाताओं से विशेष अपील

दमोह – भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी तरूण राठी ने आमजनों से कहा है, शत-प्रतिशत त्रुटिरहित मतदाता सूची के लिए मतदाता सत्यापन कार्यक्रम के तहत नामावली में अपने नाम का सत्यापन ईपिक नंबर की सहायता के अलावा बताये गये इन तरीकों से भी किया जा सकता है।
एनव्हीएसपी वेब साइट से
उन्होंने कहा अपने मोबाईल/ईपिक नंबर के साथ nvsp.in पर लॉगिन कर अपना नाम, जन्म दिनांक, लिंग, संबंधी का प्रकार, पता, फोटो सत्यापित करे, त्रुटियों या आपके विवरण/फोटोग्राफ में परिवर्तन के मामले में सही जानकारी का उल्लेख कर सूची में दर्शाये किसी भी एक आई.डी फार्म का अपलोड करें तथा आगे की सेवाओं के लिए अपना मोबाइल नंबर एवं ई-मेल दर्ज किया जाये।
वोटर हेल्पलाईन मोबाइल एप से


प्ले स्टोर से voter Helpline mobile App को डाउनलोड करें, ईव्हीपी के माध्यम से अपना नाम दर्ज कर अपना नाम, जन्म दिनांक, लिंग, संबंधी का प्रकार, पता, फोटो सत्यापित करें। त्रुटियों का आपके विवरण/फोटोग्राफ में परिवर्तन के मामले में modify में सही जानकारी का उल्लेख करें, जानकारी सही होने पर verify करें। सत्यापन उपरांत आयोग द्वारा पी.डी.एफ फार्मेट में आपको एक प्रमाण-पत्र दिया जायेगा।
बीएलओ के माध्यम से
उन्होंने कहा है 01 सितम्बर से 15 अक्टूबर 2019 के मध्य बी.एल.ओ आपके घर पर आकर सत्यापन करेगा, त्रुटि होने की स्थिति में आपका संशोधन फार्म भरेगा। कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी ने आम नागरिकों से इस कार्य में सहयोग की अपील की है।

आखिर कहां गए डिप्टी रेंजर जो कर रहे थे गौरैया नदी को पार ?


रेस्क्यू जारी पर नहीं चल पा रहा है कुछ पता ?
दमोह वन परिक्षेत्र तेजगढ़ के डिप्टी रेंजर पन्नालाल बाइक सहित आखिर कहां गए यह एक चर्चा का विषय बना हुआ है? वह कल शाम गौरैया नदी के पुल पर से अपनी बाइक निकालने की कोशिश कर रहे थे पुल पर अधिक पानी भी नहीं था लोगों ने बताया कि करीब आधे फुट पानी था जिससे अपनी बाइक सहित निकालने की कोशिश कर रहे थे और वही या तो उनकी बाइक बंद हो गई या अनियंत्रित होकर वह पुल से गिर गए और पानी के बहाव में बाइक सहित कहीं बह गए

काफी मशक्कत के बाद रेस्क्यू किया जा रहा है परंतु अभी कुछ जानकारी नहीं हासिल हो पाई है कि आखिर डिप्टी रेंजर पन्नालाल कहां गए ? बताया जाता है कि

वन विभाग का अमला कंसा घाट से लौट रहा था जिसमें उनके अधिकारी भी बोलेरो से उनके पीछे आ रहे थे और पुल पर पानी उतार की ओर था जिससे कि लोगों ने आवागमन चालू कर दिया था बोलेरो गाड़ी के आगे चल रहे डिप्टी रेंजर या तो

अनियंत्रित होकर पुल से नीचे गिर गए और बाइक सहित पानी के बहाव में बह गए या कोई अन्य कारण था अभी इसकी जानकारी नहीं हो पाई है इस घटना को लेकर संबंधित पुलिस व वन अमला मौके पर पहुंचा और रेस्क्यू ऑपरेशन करने में जुटा हुआ है

2 दिन की मशक्कत के बाद आखिर पकड़ा गया तेंदुआ

दमोह शहर के बीचोंबीच स्थित नगर पालिका टाउन हॉल में रविवार सोमवार की दरमियानी रात में तेंदुआ देखे जाने से हड़कंप मच गया पुलिस और आसपास के लोगों की भीड़ जमा हो गई और कुछ लोगों ने अन्य जगह पर भी इसके पगमार्क देखने की बात कही टाउन हॉल को चारों तरफ से घेराबंदी करने के बाद भी पुलिस और वन विभाग को सफलता नहीं मिल पाई तेंदुआ के पग मार्क मिलने से लोगों में दहशत का माहौल रहा और सतना से एक्सपर्ट टीम बुलाई गई जिन्होंने इस बात की पुष्टि की कि जो पगमार्क शहर में देखे गए हैं एक ही तेंदुआ के ही हैं और उसके बाद शहर से बाहर निकल जाने की बात उन्होंने कही थी तेंदुआ के पगमार्ग सवा लाख मानस पाठ

कंकाली माता मंदिर के आसपास भी देखे गए थे जिसको लेकर वन विभाग और पन्ना टाईगर रिजर्व के अधिकारी वहां पर भी पहुंचे और उन्होंने पगमार्क के आधार पर वन विभाग के अधिकारियों ने टाउन हाल और सवा लाख मानस पाठ के पास एक ही तेंदुआ के पग मार्क होने की पुष्टि की थी जिसके बाद पुलिस व वन विभाग के अधिकारियों को कुछ शांति मिली इस दहशत में पुलिस व वन विभाग ने रात भर पहरा दिया परंतु उन्हें कोई सफलता नहीं मिली आज सुबह पुराना थाना पर एक 10 वर्षीय बालक को पंजा मारता हुआ तेंदुआ एक घर में घुस गया जहां कुछ लोगों ने देखा और उसके बाद पुलिस व वन विभाग की टीम ने रेस्क्यू कर उसको जाल में लपेट कर बंद किया और नौरादेही अभ्यारण ले जाने की बात कही गई है

एक ही स्थान पर मिले फ्री महिलाओ को उपहार,तो लग गई भीड़

निःशुल्क गैस कनेक्शन, मड़ियादो और भिलोनी गांव में आयोजित शिविरों में सेकड़ो हितग्राही लाभान्वित

दमोह– केंद्र सरकार की अतिमहत्वाकांछि उज्ज्वला योजना को लेकर अब सरकार ग्रामीण अंचलों में शिविरों का माध्यम से पात्र हितग्राहियों को लाभ दिलाना सुनिश्चित कर रही है।योजना के तहत स्थानीय गैस डीलर कम्पनी ग्रामीण अंचलों में शिविरों के माध्यम से फूड विभाग के अधिकारियों की निगरानी में आवश्यक कागजी खानापूर्ति करते हुए एक साथ एक ही स्थान पर कई हितग्राहियों को लाभान्वित कर रहे हैं। ग्राम पँचायत मड़ियादो में अनन्या भारत गैस एजेंसी द्वारा फ्री गैस कनेक्शन केम्प का आयोजन किया गया जिसमें जिला खाद्य अधिकारी बी के सिंह, कनिष्क आपूर्ति अधिकारी ज्योति सिंह ने  योजना की मॉनिटरिंग करते हुए जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में पात्र हितग्राहियों को गैस कनेक्शन वितरित किए,

ujjvala yojna

अधिकारियों ने शिविर में उपस्थित महिलाओं को योजना के लाभ लेने और समय पर रिफिलिंग कराने की सलाह देते हुए योजना के बारे में बताया, इस अवसर पर ग्राम पंचायत मड़ियादो की सरपंच सुहागरानी,कांग्रेस उपाध्यक्ष मंजुलता श्रीवास्तव, भाजपा ग्रामीण मंडल अध्यक्ष डॉ रामगोपाल सोनी ने शिविर में मड़ियादो ,वर्धा, चोरइया आदि ग्राम पंचायतो की कई महिला हितग्राहियों को गैस कनेक्शन किट प्रदान की।

ग्राम शिवपुर से आई हितग्राही दीपा पति हरिसिंह आदिवासी ने योजना के लाभ मिलने पर खुशी जाहिर करते हुए इसे महिलाओं के हित मे केंद्र सरकार की इस योजना की प्रशंसा की,इसी तरह आदिवासी अंचल घोघरा से आई दमयंती पति नत्थू रजक का कहना है कि उनके गांव में लकड़ी की कोई कमी नही लेकिन इस योजना से अब वह चूल्हे और धुँए की समस्या से मुक्त होकर आसानी से भोजन बना पाएगी। पुरानखेड़ा से आई कुसुम पति सन्तोष कुशवाहा ने भी उज्ज्वला योजना को महिलाओं के लिये बड़ा उपहार बताया।

आखिर क्यों रुकमणी माता की मूर्ति वापस आने से गरमाई राजनीति ?

दमोह -दमोह विधायक राहुल सिंह ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में पूर्व वित्त मंत्री जयंत मलैया पर खुले आरोप लगाए और उन्होंने कहा है कि भाजपा के समय दमोह के कद्दावर मंत्री रुकमणी माता की मूर्ति लाने में असफल रहे क्योंकि इसके पीछे उनकी कुछ इरादे और थे ? उन्होंने कहा कि कांग्रेसी सरकार ने हमारे एक पत्र को संज्ञान में लेकर उस पर कार्यवाही कर रुकमणी माता की मूर्ति वापस लाने में पूरा समर्थन किया जिसमें केंद्रीय एवं संस्कृति मंत्री पहलाद पटेल का योगदान भी रहा उनका कहना था कि भाजपा की राज्य सरकार द्वारा जानबूझकर माता रुक्मणी को ना लाने के प्रयास किए गए जिससे हिंदुओं की भावनाएं आहत हुई है? रुकमणी माता की प्रतिमा दमोह लाना मेरा लक्ष्य था और वह मैंने व सांसद के प्रयास में इसको हल भी किया |

उन्होंने पूर्व वित्त मंत्री पर आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें जानकारी देना चाहिए कि आखिर क्यों उन्होंने अपनी सरकार के रहते हुए माता रुकमणी देवी की मूर्ति वापस नहीं ला पाए उन्होंने हिंदुओं की भावनाओं को अनदेखा किया है इसका जवाब उन्हें सार्वजनिक देना ही चाहिए ?

उन्होंने कहा कि सांसद पहलाद पटेल ने यह मुद्दा उठाया था लेकिन केंद्र सरकार का यह विषय नहीं था यह राज्य की सरकार के ऊपर निर्भर था और उस चर्चा के बाद उसके ऊपर कोई प्रतिक्रिया नहीं हुई क्योंकि राज्य में भाजपा की सरकार थी और अब कांग्रेस की सरकार आते ही अनुकूल परिस्थितियों में हमने रुकमणी देवी की मूर्ति वापस लाने के सार्थक प्रयास किए हैं

मैं उन सब का भी बहुत-बहुत धन्यवाद करना चाहूंगा जिन्होंने इतने वर्षों के बीच में माता रुक्मणी देवी की मूर्ति लाने के लिए पैदल यात्रा की ,ज्ञापन दिया और भी अपने स्तर पर कई प्रयास किए और अब शीघ्र ही माता रानी का मठ तैयार होने के बाद उन्हें सा सम्मान वहां पर स्थापित किया जाएगा

विधायक द्वारा पत्रकार वार्ता में पूर्व मंत्री पर खुले आरोप लगाने के बाद भारतीय जनता पार्टी के मीडिया प्रभारी मनीष तिवारी ने जानकारी दी कि मंत्री पहलाद पटेल के विशेष प्रयासों से दमोह में रुक्मणी मां की मूर्ति वापस आई है और इस को लेकर स्थानीय विधायक किस हद तक जा सकते हैं यह सभी के सामने हैं उन्होंने यह भी कहा कि यह सरकार अल्पमत में है और चुनाव कभी भी हो सकते हैं ? उन्होंने आरोप लगाया कि सांप्रदायिक माहौल खराब करने की कोशिश की जा रही है? और उन्होंने जो पूर्व मंत्री पर आरोप लगाए हैं वह निराधार हो सरासर झूठ है क्योंकि पूर्व मंत्री द्वारा मूर्ति वापस लाने के लिए लगातार प्रयास किए गए थे परंतु केंद्र में कांग्रेस की सरकार होने के कारण यह संभव नहीं हो पाया था

मीडिया प्रभारी ने कहां कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की पटेरा में जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान भी उन्होंने रुकमणी माता की मूर्ति वापस लाने की बात की थी, क्योंकि यह सभी की आस्था का प्रश्न था और जन भावनाओं को समझते थे इसलिए माता रुक्मणी की मूर्ति लाने का एक ही मकसद था कि सभी की जन भावनाओं का सम्मान करना |

आखिर अब प्रश्न उठता है कि राजनैतिक गर्मा गर्मी में बात यहीं थम जाएगी या इसके अंदर की बातें भी सामने आएंगी कि यह चोरी किन परिस्थितियों में हुई थी ? और इस चोरी में कितने लोग शामिल थे? और वह कौन-कौन लोग शामिल थे ? और उस चोरी की घटना के बाद उस पर क्या कार्यवाही हुई ? और उसमें क्या सफलता मिल पाएगी या नहीं आखिर ऐसा क्यों हुआ क्या इस मामले में खात्मा लग चुका है ? या — ऐसे बहुत से प्रश्न है जो जांच के विषय बने हुए हैं ?

स्वयं नाव चला कर नदी पार करके स्कूल जाते हैं प्राथमिक शिक्षिका

दमोह जिले के प्राथमिक शाला दिनारी में पदस्थ शिक्षिका शकुन ठाकुर,

स्वयं नाव चला कर नदी पार करके स्कूल जाती हैं प्राथमिक शिक्षिका

प्रत्येक क्षेत्र में पुरुषों से आगे निकल रही हैं महिलाएं

नीतेश पटेल की रिपोर्ट

दमोह -नारी एक ऐसी शक्ति का नाम है जो बलिदान और प्रतिज्ञा की मिसाल है, अगर वह घर की बागडोर थाम ले तो उसे स्वर्ग बना देती है उसी तरह अगर वह तलवार उठा ले तो अच्छे-अच्छे योग्य को भी मार गिराती है, वर्तमान युग की महिलाएं हर क्षेत्र में संघर्ष कर रहे हैं, खुद अपने दम पर मेहनत करके कुछ कर दिखाने का जज्बा रखती हैं आइए आपको बताते हैं एक ऐसी महिला के बारे में जिन्होंने अपनी प्रतिभा और दृढ़ निश्चय से अपने लक्ष्य मार्ग के बीच में पड़ने वाली 100 मीटर चौड़ी व्यारमा नदी को स्वयं ही नाव के द्वारा पार करके समय पर विद्यालय पहुंचती हैं, हम आपको बता दें कि नदी को पार करना उनका रोज का कार्य है, यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी कि आज की नारी पुरषों की अपेक्षा कई गुना आगे है, इस संबंध में जब प्राथमिक शिक्षिका शकुन ठाकुर से बात की गई तो उन्होंने बताया कि मैं ग्राम धमारा की रहने वाली हूं एवं मेरी पोस्टिंग प्राथमिक शाला दिनारी में है, जोकि मेरे ग्राम से मात्र 1 किलोमीटर की दूरी पर है, लेकिन उसी रास्ते व्यारमा नदी बीच में पढ़ती है,

नदी के इस किनारे से उस किनारे तक आने जाने के लिए लकड़ी की नाव डली है, जिस पर बैठकर स्वयं के द्वारा चला कर इस पर आते हैं, ताकि समय पर स्कूल पहुंच सकें,, शिक्षिका शकुन ठाकुर ने यह भी बताया कि स्कूल पहुंचने के लिए दूसरा मार्ग भी है, लेकिन उसकी दूरी करीब 18 किलोमीटर है जिस पर कोई यातायात के साधन भी उपलब्ध नहीं हैं, अगर स्कूल समय से पहुंचना है तो नाव चलाकर ही जाना पड़ता है

शिक्षिका ने बताया कि पहले बैठने में ही बहुत डर लगता था कि नाव पलटना जाए, इस के डर से कुछ समय में दिनारी किराए के मकान में रहने लगी लेकिन मेरे पति ने मेरा आत्मविश्वास बढ़ाया और उन्होंने कहा कि चलो मैं आपको नाव चलाना सिखा देता हूं, उनके कहने पर मैं रोज नाव से नदी पार करती हूं, गर्मियों के समय में नदी में बहाव कम रहता है जिसके कारण नाव खेने में दिक्कत नहीं जाती, लेकिन बारिश की समय में बहुत तेज धार होने के कारण नाव को चलाना थोड़ा कठिन हो जाता है लेकिन इन्हीं कठिनाइयों को पार करते हुए नौका भी पार लग जाती है, इस कारनामे को देखकर जन शिक्षक भी हैरान है कि एक महिला जो पुरुषों से कहीं अधिक ज्यादा कार्य करती है, और समय पर स्कूल पहुंचकर बच्चों को पढ़ाना एवम पुनः शाम को नाव चला कर घर पहुंचना बहुत काबली तारीफ का विषय है

नीतेश पटेल की रिपोर्ट

आखिर क्यों दिग्विजय सिंह ने कहा,कौन सी मुश्किल सीट है यह तय करेगी कांग्रेस पार्टी और वही से चुनाव लड़ूंगा

कटनी/ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री  दिग्विजय सिंह बुधवार की सुबह मध्यप्रदेश में कटनी पहुंचे । उन्होंने कटनी पहुंचकर कांग्रेसजनो से मुलाकात की और संत देवप्रभाकर शास्त्री दद्दा जी के भी दर्शन कर आशीर्वाद लिया । इस दौरान उन्होंने मीडिया से मुलाकात की और अनेक सवालों के जवाब दिए ।

दिग्विजयसिंह कहा से चुनाव लड़ेंगे इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कौन सी मुश्किल सीट है यह तय करेगी कांग्रेस पार्टी और वही से चुनाव के लड़ूंगा जहा से कांग्रेस कहेगी

प्रधानमंत्री के चौकीदार केम्पियन का जवाब देते हुए दिग्विजयसिंह ने कहा कि जिसकी चोरी पकड़ी गई वो चौकीदार है कि चोर है, अगर चोर ही चौकीदार का तमगा डाल के चलेगा तो चौकीदारी कौन करेगा —- वही हालत मोदी जी की है —- राफेल को सबसे बड़ा घोटाला बताते हुए उन्होंने कहा कि वे कीमत बताने को तैयार नही है कि हवाई जहाज कितने में खरीदे —— ऐसा भ्रस्टाचार देश मे कभी देखने को नही मिला ——- चौकीदारों को शर्म आनी लगी है , मोदी और शिवराजसिंह चौकीदार बनने की चोर ही चौकीदार बनने की कोशिश कर रहे हैं

– हिन्दू धर्म का मुद्दा कांग्रेस के भी अपनाए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि बीजेपी ने ठेका ले लिया है —  मैं हिन्दू हु और इन सब से बीजेपी के नौटंकीबाजो से ज्यादा बेहतर हु

– प्रियंका ग़ांधी के सवाल पर उन्होंने कहा कि प्रियंका एक एक शब्द का अंदाजा लगाइए कितना बढ़िया तरीके से कह रही है —– भीड़ लगी हुई है भाजपा घबराई हुई है मोदी जी घबराए हुए हैं

– सत्ता पर कौन काबिज होगा इस पर उन्होंने कहा कि सत्ता मोदी की नही बनेगी

रिपोर्ट :- यश खरे कटनी

महामहिम राज्यपाल करेंगी रास्ते में पढ़ने वाले आंगनबाड़ी, अस्पताल और स्कूल में आकस्मिक निरीक्षण

     दमोह जिले में आगामी एक मार्च को महामहिम राज्यपाल आनंदीबेन दमोह आयेगी। इस संबंध में आज दोपहर कलेक्टर नीरज कुमार सिंह ने अधिकारियों की बैठक में कार्यक्रम की रूपरेखा पर चर्चा कर आवश्यक दिशा निर्देश दिये। बैठक में पुलिस अधीक्षक आर.एस.बेलवंशी, सहायक कलेक्टर कुमार सत्यम, एडीशनल कलेक्टर आनंद कोपरिहा, एडीशनल एसपी विक्रम सिंह विशेष रूप से मौजूद रहे।

      कलेक्टर नीरज कुमार सिंह ने कहा महामहिम राज्यपाल एक मार्च को प्रात: 9 बजे जबलपुर आयेंगी, वहां से आप सड़क मार्ग द्वारा जबलपुर से दमोह आयेगी। उन्होंने कहा महामहिम रास्ते में पढ़ने वाले आंगनबाड़ी, अस्पताल और स्कूल में आकस्मिक निरीक्षण करेंगी। एसडीएम से कहा गया सभी आवश्यक व्यवस्थाएं सुनिश्चित करायेंगे।

      कलेक्टर ने कहा महामहिम का फूलों से स्वागत की बजाय फलों से स्वागत किया जायेगा, जिसे बाद में स्थानीय आंगनबाड़ी में वितरित किया जायेगा। महामहिम अपने भ्रमण के दौरान दमोह में अधिकारियों की बैठक लेंगीं। साथ ही महामहिम जनधन योजना, उज्ज्वला योजना, सौभाग्य योजना के हितग्राहियों से चर्चा करेंगी। इसके साथ ही रेडक्रास समिति की बैठक भी लेंगी। कलेक्टर ने अधिकारियों से कहा महामहिम किसी भी कार्यालय, अस्पताल, आंगनबाड़ी का भी आकस्मिक निरीक्षण करेंगी।


जिला अस्पताल में बनेगा पत्रकार प्राइवेट वार्ड

— विधायक राहुल सिंह ने दिया एमपी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन को आश्वासन—

दमोह/वर्तमान कांग्रेस शासन के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने पत्रकार सुरक्षा कानून को हरी झंडी दे दी है। और किसी प्रकार की घटना घटने पर पत्रकार को एक निश्चित मुआवजा राशि देने की भी बात कांग्रेस प्रशासन ने की है। विगत कई वर्षों से बीजेपी शासन में एमपी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन ने दमोह जिला अस्पताल में पत्रकारों के हित के लिए व उनके परिवार के लिए प्राइवेट पत्रकार वार्ड की मांग तत्कालीन विधायक व सांसद से रखी थी। मगर उस पर बीजेपी शासन में कोई अमल नहीं हो पाया था। आज विधायक

निवास पर विधायक राहुल सिंह से चर्चा करने पर उन्होंने दमोह जिला अस्पताल पर पत्रकार प्राइवेट वार्ड के लिए आश्वासन ही नहीं इस पर अपनी प्रतिबद्धता भी दर्शाई ।उन्होंने कहा की पत्रकार समाज के चौथे स्तंभ हैं, थे ,और रहेंगे ।हमारी सरकार पत्रकारों के हित के लिए हर कार्य करने के लिए प्रतिबद्ध रहेगी । उन्होंने कहा की मुझे इस बात का आभास है कि पत्रकार प्राइवेट अस्पतालों में महंगे इलाज करवा पाने की स्थिति में नहीं रहते हैं ।उन्हें शासन प्रशासन द्वारा

समय-समय पर उचित इलाज की व्यवस्था भी सरकार निकट भविष्य में देगी ।मैं जिला अस्पताल के प्रबंधकों से इस विषय में जल्द से जल्द बात करके उस पर मंजूरी की मोहर लगवा लूंगा। एमपी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन के अध्यक्ष हरीश राय उपाध्यक्ष राजेंद्र तिवारी वह संभागीय सह सचिव महेंद्र सिंह परिहार ने विधायक राहुल सिंह का आभार माना।

आखिर क्यों पत्रकार सुरक्षा कानून की मांग निरंतर उठ रही है ?


एम पी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन ने CM के नाम का ज्ञापन.. कलेक्टर को सौंपा

दमोह। पत्रकारों की सुरक्षा से लेकर उनकी आर्थिक हालात को सुधारने, छोटे समाचार पत्रों, वेबसाइट और न्यूज चैनलों को बराबरी से विज्ञापन आवंटित करने के लिए नीति निर्धारण करने जैसे मुद्दों को लेकर आज मुख्यमंत्री के नाम संबोधित ज्ञापन कलेक्टर नीरज कुमार सिंह को सौंपा गया।एमपी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन के बैनर तले शनिवार दोपहर कलेक्ट्रेट कार्यालय पहुंचे जिले के अनेक पत्रकारों ने कलेक्टर नीरज कुमार सिंह से मुलाकात की और उन्हें मुख्यमंत्री के नाम संबोधित अपनी मांगों का एक ज्ञापन सौंपा। जिसमें पत्रकारों की सुरक्षा के लिए पत्रकार सुरक्षा कानून शीघ्र बनाने, पत्रकारों को दी जाने वाली श्रद्धा निधि बढ़ाकर 10 हजार रुपए करने, छोटे समाचार पत्रों को जो

नियमित रूप से प्रकाशित होते हैं, चाहे दैनिक हो या फिर साप्ताहिक अथवा मासिक। सभी को एक निश्चित राशि के विज्ञापन दिए जाने, इसी तरह वेबसाइट के पुराने नियमों को समाप्त कर एक निश्चित राशि के विज्ञापन सभी वेबसाइट को दिए जाने जैसी मांगों का उल्लेख किया गया है।सके

अलावा प्रदेश में सभी पत्रकारों पर चल रहे मुकदमे की पुनः समीक्षा कर उच्च अधिकारियों से अविलंब जांच कराई जाने की मांग भी की गई है। ज्ञापन अवसर पर एमपी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन की दमोह शाखा से आशीष जैन, महेंद्र परिहार, डॉ मनोहर शर्मा, गणेश अग्रवाल, राजू प्रिंस, फैयाज खान, नरेंद्र अठया, विवेक सेन, राजेंद्र तिवारी, रूपेश अग्रवाल, निजाम खान आदि की उल्लेखनीय उपस्थिति रही।