अच्छी पहल.. आखिर क्यों जिला प्रशासन, सामाजिक संस्थाएं मिलकर लड़ेगीं कोरोना से जंग,CICM ने भी क्वारंटाइन सेंटर बनाने के लिए खोले आठ रूम,MICS ने चार CAPAP मशीनें जिले को कराई उपलब्ध

दमोहः देश ,प्रदेश के साथ दमोह जिला प्रशासन भी कोरोना वायरस को लेकर गंभीर है, भले ही दमोह में  अभी तक एक भी पॉजिटिव मरीज ना पाया गया हो लेकिन जिला प्रशासन कोई भी कोताही बरतना नहीं चाहता। इसमे अच्छी ख़बर ये निकलकर आई है । कि दमोह जिला प्रशासन और जिले की सामाजिक संस्थाये मिलकर इस महामारी से मुकाबला करने तैयार है । दमोह की प्रमुख सामाजिक संस्थाए भी जिला प्रशासन के साथ मिलकर इस महामारी से मुकाबला करने मैदान में आ गई है

जैसे जैसे कोरोना अपने पैर पसार रहा है उसी रफ्तार से प्रदेश के साथ साथ दमोह जिला प्रशासन भी चौकस और सतर्क होता जा रहा है कोरोना दमोह से महज 75 किलोमीटर की दूरी पड़ोसी जिला सागर तक पहुच गया जिसको लेकर जिला प्रशासन कोरोना को रोकने में कोई कोरकसर छोड़ना नही चाहता दमोह कलेक्टर तरुण राठी ने अपनी सक्रियता बढ़ाते हुए हर मोर्चे पर अपनी टीम तैयार कर रखी है जिसमें जिले के डॉक्टर, पुलिसकर्मियों, और जिले की प्रमुख सामाजिक संस्थाए इस वक़्त सब एक होकर इस जान लेवा बीमारी से मुकाबला करेगी हाल ही में सामाजिक संस्था मिड इंडिया क्रिश्चियन मिशन एम आई सी एस के डारेक्टर राजकमल डेविड लाल ने चार CPAP मशीने  दमोह जिले वासियों को उपलब्ध करा दी जिसमें एक मशीन जिला अस्पताल ,2 मशीनें मिशन हॉस्पिटल को और एक मशीन पुलिस अस्पताल को डोनेट

की है। यह मशीन मरीज़ को फेफड़ो के इन्फेक्शन या सांस लेने में तकलीफ होने पर सांस लेने में मदद करती है आम बोलचाल की भाषा में इसको मिनी वेंटिलेटर भी कहा जाता है। जो  एम आई सी एस मिड इंडिया क्रिस्चियन सर्विसेज के सौजन्य से CPAP मशीन अस्पताल को डोनेट की है इसी के साथ संस्था बड़ी संख्या में मास्क भी पुलिसकर्मियों को बनबाकर दे रही है कुल मिलाकर कहा जाए दमोह में एक साथ चार CPAP मशीनें उपलब्ध है अगर कोई भी गंभीर मरीज मिलता है तो उसे तुरंत इलाज के लिए जिला प्रशासन तैयार है ,वहीं दूसरी तरफ आधातशिला संस्थान के

डारेक्टर समाज सेवी डॉ अजय लाल ने भी दमोह जिले की सीमा से लगे मुरड़ गांव में बने अपने कैंपस के आठ कमरे क्वारंटाइन सेंटर बनाने के लिए खोल दिये जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन लगातार जगह तलाशने में जुटा है क्वारंटाइन सेंटर बनाने के लिए ताकि अगर जिले में कहीं भी कोरोना पॉजिटिव मरीज पाया जाता है तो उन्हें रखा जा सके जिसका मुआयना खुद दमोह पुलिस कप्तान हेमंत चौहान ने  डॉ

अजय लाल के मुरड़ गांव में बने कमरों का निरीक्षण किया इस अवसर पर एस पी हेमन्त चौहान ,डॉ लाल के अलावा एडिशनल एस पी विवेक लाल, रक्षित निरीक्षक रविकांत शुक्ला मजूद रहे । एस पी हेमन्त चौहान के अनुसार अभी जगह तलाश कर रहे है ताकि कोरोना पॉजिटिव  अगर पाया जाता है तो उसे किसी अलग स्थान पर रखकर इलाज दिया जा सके वही डॉ अजय ने बताया  हमारे जिले के पुलिस कप्तान दमोह

में क्वारंटाइन सेंटर के लिए जगह तलाश कर रहे है मुझे जानकारी मिली हमने भी अपने मुरड़ क्षेत्र में बने कमरों को दिखाया उन्होंने कहा ईश्वर ना करे हमारे यहाँ कोई मरीज मिले लेकिन फिर भी अगर मरीजों को रखने की जरूरत पड़ती है तो हमारे आठ

कमरे उपलब्ध है जो दमोह से दूर स्वच्छ वातावरण में क्वारंटाइन सेंटर बनाने के लिए हमारे कमरे तैयार है। समाजिक संस्थाओं के सहयोग और पहल के लिए जिले के मुखिया कलेक्टर तरुण राठी ने भी संस्थाओं का आभार माना। कुल मिलाकर कहा जाए दमोह प्रशासन और जिले की सामाजिक संस्थाये साथ मिलकर कर इस नाज़ुक वक़्त में किसी भी परिस्थितियों का सामना करने तैयार है

इम्तियाज़ चिश्ती दमोह

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *