युवा पीढ़ी को भारतीय संस्कृति के अध्ययन के लिये करें प्रेरित

 भोपाल-राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल ने आज तुलसी मानस प्रतिष्ठान की विशेष समिति की बैठक ली। इस मौके पर उन्होंने कहा कि देश में आज भी धार्मिक ग्रंथों पर शोध और अनुसंधान हो रहे हैं। भारतीय सभ्यता और संस्कृति के वैज्ञानिक तथ्यों की तलाश की जा रही है। उन्होंने कहा कि इस समय युवा पीढ़ी को भारतीय संस्कृति और सभ्यता का अध्ययन करने के लिये प्रेरित किया जाना चाहिए। स्कूलों और महाविद्यालयों में संस्कृति पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रमों को बढ़ावा दिया जाना चाहिए। इससे चरित्रवान और संस्कारवान पीढ़ी के निर्माण में मदद मिलेगी।

राज्यपाल ने तुलसी मानस प्रतिष्ठान द्वारा किये जा रहे कार्यों पर संतोष व्यक्त करते हुए कहा कि वरिष्ठ सदस्यों के सहयोग और अनुभव से गतिविधियों को विस्तारित स्वरूप दिया जाये। बैठक में प्रतिष्ठान के कार्यकारी अध्यक्ष  रमाकांत दुबे ने प्रतिष्ठान की गतिविधियों का प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। इस मौके पर वरिष्ठ सदस्य  दीपक शर्मा कथा वाचक  रमेश शर्मा, सचिव  एन.एल. खण्डेलवाल, सेवानिवृत्त न्यायमूर्ति  आर.डी. शुक्ला सहित अन्य सदस्य भी उपस्थित थे।

कलेक्टरों को नगद राशि की समुचित आपूर्ति बनाये रखने के निर्देश

 

भोपाल-मुख्य सचिव बसंत प्रताप सिंह की अध्यक्षता में सम्पन्न परख वीडियो कान्फ्रेंस में प्रदेश के सभी जिलों में कैश की समुचित आपूर्ति बनाये रखने के लिए रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया एवं अन्य बैंको के सहयोग से व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश दिये गए हैं। इस दौरान जिला कलेक्टरों को बैंक अधिका‍रियों से निरंतर संपर्क में रहने की हिदायत दी गई।

वीडियो कान्फ्रेंस में उन 8 जिलों की समीक्षा भी की गई, जिन जिलों के कलेक्टरों से प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी नीति आयोग की अनुशंसा के आधार पर 24 अप्रैल को मंडला में चर्चा करेंगे।

परख वीडियो कान्फ्रेंस में गेंहू, चना, मसूर के उपार्जन की स्थिति, उचित मूल्य दुकान विहीन ग्राम पंचायतों में नवीन दुकान खोलने, ग्रीष्म काल में पेयजल व्यवस्था के लिए जारी तैयारियों और असंगठित श्रमिकों के कल्याण के लिये आरंभ योजना की समीक्षा भी हुई। इस अवसर पर प्रधानमंत्री उज्जवला योजना में शामिल नवीन श्रेणियों, सौभाग्य योजना क्रियान्वयन सहित अनुसूचित जाति तथा जन जाति वर्ग के हितग्राहियों के आधार पंजीयन के लिए जिला स्तर पर जारी गतिविधियों के संबंध में भी आवश्यक निर्देश दिये गये।

 

42वर्ष बाद होगा  विश्वविद्यालय में दीक्षान्त समारोह

डॉ हरिसिंह गौर केन्द्रीय विश्वविद्यालय में राष्ट्रपति का आगमन 28 अप्रैल को 

सागर- हरीसिंह गौर केंद्रीय विश्वविद्यालय का 27 बा दीक्षान्त समारोह  राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द के मुख्य आतिथ्य में 28 अप्रैल 2018 को दोपहर 12:00 बजे से  गौर समाधि स्थल  के पास आयोजित होगा। इस आशय की सहमति राष्ट्रपति भवन से विश्वविद्यालय प्रशासन को प्राप्त हो चुकी है।उल्लेखनीय है कि डाॅ. हरीसिंह गौर विश्वविद्यालय सागर में लगभग 42 वर्षों के बाद दीक्षान्त समारोह का आयोजन किया जा रहा है इतने वर्षों तक लगातार दीक्षांत समारोह ना होने की वजह कुलपति भी नहीं बता पाए परंतु 2009 में केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा मिलने के बाद डॉ हरिसिंह गौर विश्वविद्यालय पर नियुक्ति घोटाले को लेकर सीबीआई की जांच चल रही है  तथा पूर्व कुलपति एन एस गजभिए को इस मामले में जेल भी जाना पड़ा है एक कारण  केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा मिलने के बाद  दीक्षांत समारोह ना होने का    यह भी  रहा है विश्वविद्यालय को जब से केंद्रीय विश्वविद्यालय का दर्जा मिला है तब से या विश्वविद्यालय लगातार विवादों में घिरा चला आ रहा है

राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द के भव्य स्वागत एवं दीक्षान्त समारोह के आयोजन हेतु विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा तैयारियों को अंतिम रुप दिया जा रहा है।आगामी वर्षों मे प्रतिवर्ष दीक्षान्त समारोह का आयोजन किया जाता रहेगा।दीक्षान्त समारोह 2018 के लिए  आनलाइन आवेदन हेतु अन्तिम तिथि 20 अपैल तक बढ़ा दी गई है ताकि बुन्देलखंड के दूर दराज के विद्यार्थियों को भी इसका लाभ प्राप्त हो सके। इच्छुक विद्यार्थि विश्वविद्यालय की साइट   पर 20 अपैल 2018 तक आनलाइन आवेदन कर सकते है।

सागर से टेकराम ठाकुर

 

|

एक मई से तालाब संरक्षण के लिये चलाया जायेगा प्रदेशव्यापी अभियान

भोपाल-मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रदेश में एक मई से 15 जून तक तालाब संरक्षण का अभियान चलेगा। इस अभियान के दौरान तालाबों के जीर्णोद्धार, गहरीकरण और नए तालाबों के निर्माण के कार्य किए जाएंगे। उन्होंने बताया कि प्रदेश में जल संरक्षण के प्रयासों पर विचार-विमर्श के लिये जल संसद का आयोजन किया जा रहा है। इस आयोजन में नदी और तालाब संरक्षण से जुड़े विशेषज्ञ शामिल होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि तालाब के साथ ही प्रदेश में नदियों के पुनर्जीवन और गहरीकरण के कार्य भी किये जाएंगे।  चौहान आज भोपाल तालाब गहरीकरण अभियान के शुभारंभ अवसर पर नागरिकों को संबोधित कर रहे थे।

मुख्यमंत्री  ने नागरिकों का आव्हान किया कि तालाब के संरक्षण के लिए आत्मीयता के साथ समर्पण की भावना से गहरीकरण कार्य में श्रमदान करें। गहरीकरण के कार्य में श्रमदान तालाब के साथ भावनात्मक जुड़ाव का प्रतीक है। तालाब और जल का संरक्षण, उसकी सीमाओं की रक्षा, शासन-प्रशासन के साथ ही जनता की भी जिम्मेदारी है। उन्होंने भरोसा जताया कि कर्तव्यनिष्ठ और जिंदा दिल भोपालवासी तालाब को निर्जीव नहीं होने देंगे।

महापौर  आलोक शर्मा ने कहा कि भोपाल का तालाब नगर की जीवन रेखा है, जिसमें शहर के प्राण, आत्मा और संस्कृति बसती है। उन्होंने कहा कि हर नागरिक का धर्म और कर्तव्य, तालाब का संरक्षण है। महापौर ने बताया कि तालाब को जीवंत बनाने के लिये गहरीकरण अभियान शुरू किया गया है। नागरिकों और संस्थानों द्वारा इस कार्य में बढ़-चढ़कर हिस्सेदारी निभाई जा रही है।

 

स्कूली बच्चों ने देखीं डेढ़ हजार वर्ष पुरानी दुर्लभ मूर्तियाँ

स्कूली बच्चों ने देखीं डेढ़ हजार वर्ष पुरानी दुर्लभ मूर्तियाँ

भोपाल-डेढ़ हजार साल पहले का भारतीय सामाजिक परिवेश, वस्त्रों की बनावट एवं उनका उपयोग, तरह-तरह के आभूषणों और वाद्य-यंत्रों सहित तमाम पहलुओं की ज्ञानवर्घक जानकारी और ऐतिहासिक तथ्यों की प्रमाणिकता श्यामला हिल्स स्थित राज्य संग्रहालय में देखी जा सकती है। बाबड़िया कलाँ भोपाल के शासकीय हाई स्कूल के 75 विद्यार्थियों ने प्राचार्य श्रीमती गीता वर्मा के नेतृत्व में शनिवार को राज्य संग्रहालय में वीथिकाओं में यह सब देखा।
यहाँ प्रदर्शित प्राचीन मूर्तियाँ, पवाया स्थल की मृणमयी कृतियों को देखकर विद्यार्थी हतप्रभ हुए। उनकी जिज्ञासाओं का समाधान संग्रहालय के कीपर


बी.के. लोखण्डे ने किया। संग्रहालय की लघुचित्र वीथी में प्रदर्शित मराठा- मुगल, राजपूताना, कांगड़ा और बुंदी शैली के चित्रों में प्रयुक्त रंगों का समावेश अद्वितीय है। विद्यार्थी दल के सदस्य अजय एकले, आकाश कुशवाहा, इकरान खॉन एवं आरती कुशवाहा ने संग्रहालय में उपलब्ध प्राचीन दुर्लभ प्रतिमाएँ, शैलचित्र, बाघचित्र बीथी और लघुचित्रों को अध्ययन के लिए उपयुक्त स्थल बताया।
उत्तराखण्ड के पुरा-विध दल ने किया अवलोकन

उत्तराखण्ड राज्य के हल्दवानी और नैनीताल से पुराविध के सदस्यों के दल ने भी राज्य संग्रहालय में प्रदर्शित प्राचीन प्रतिमाओं के इतिहास की जानकारी में गहरी दिलचस्पी दिखाई। दल ने भगवान शिव-पार्वती के अनेक रूप, शिवजी विषपान करते हुए, बीणा हाथ में लिए, शिव-विवाह, रावण का अनुग्रह का दृश्य जैसे धार्मिक स्त्रोतों में वर्णित आख्यानों की कृतियों का दिग्दर्शन किया। सदस्य दल के प्रमुख डॉ. पी.सी. शर्मा और जगदीश अरोड़ा ने बताया कि यहाँ की वीथिकाओं में प्रदर्शित देवी-देविताओं की मूर्तियाँ और अन्य सामग्री का संरक्षण और संवर्धन की गुणवत्ता को देखकर आनंदित हुए हैं।

डॉ. अम्बेडकर जयंती पर आयोजित गरिमामय कार्यक्रम में वित्त मंत्री ने दमोह नगर के 5 अनुसूचित बाहुल्य वार्डो में 15-15 लाख की लागत से सामुदायिक भवन बनवायें जाने की घोषणा की

 

डॉ. अम्बेडकर की 127वीं जयंती पर श्रद्धासुमन अर्पित

दमोह 

          डॉ. अम्बेडकर जयंती के अवसर पर आयोजित गरिमामय कार्यक्रम में वित्त और वाणिज्यिक कर मंत्री जयंत कुमार मलैया ने घोषणा करते हुए कहा दमोह शहर के अनुसूचित बाहुल्य 5 वार्डो में 15-15 लाख की लागत से 5 सामुदायिक भवन बनवायें जायेंगे। इसके पूर्व उन्होंने डॉ. भीमराव अम्बेडकर की 127वीं जयंती पर उनके चरणों पर श्रद्धासुमन अर्पित किये। इस मौके पर कलेक्टर डॉ. श्रीनिवास शर्मा और पुलिस अधीक्षक विवेक अग्रवाल, भाजपा जिला अध्यक्ष देवनारायण श्रीवास्तव, नगरपालिका अध्यक्ष मालती असाटी, पूर्व विधायक आनंद श्रीवास्तव विशेष रूप से मौजूद थे।

वित्त और वाणिज्यिक कर मंत्री जयंत कुमार मलैया ने कहा मैं यहां बाबा साहब की जयंती के कार्यक्रम में दशकों से आ रहा हूं। आज यहां लोगों में गजब का उत्साह है। उन्होंने

यहां कार्यक्रम में प्रस्तुत किये गये गीतों की सराहना की, कहा दमोह शांत है और हमेशा रहेगा। वित्त मंत्री ने यहां की सामाजिक समरसता की सराहना की।

इस अवसर पर कलेक्टर डॉ. श्रीनिवास शर्मा ने डॉ. भीमराव अम्बेडकर 127वीं जयंती पर श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए कहा बाबा साहब ने जीवनकाल में समाज को दिया है, वो सर्वविदित है। उन्होंने कहा डॉ. साहब एक विराट व्यक्तित्व थे, उनका चिंतन विशाल था। कलेक्टर ने कहा बाबा साहब अतुलनीय व्यक्ति थे। उन्होंने कहा बाबा साहब का जीवन शोषित वंचित की सेवा में व्यतीत रहा। कलेक्टर ने कहा बाबा साहब ने मजबूत लोकतंत्र की स्थापना की।

कार्यक्रम में पुलिस अधीक्षक विवेक अग्रवाल ने कहा भारत रत्न डॉ. भीमराव अम्बेडकर की 127वीं जयंत पर मैं उनके चरणों में नमन् करता हूं। उन्होंने समाज के लोगों से आव्हान किया हमें शिक्षा ग्रहण करनी है, बच्चों को भी शिक्षा देनी है, कहा योग्यता क्षमता बढ़ायें। श्री अग्रवाल ने कहा हम जिन कठिनाईयों को झेले हैं, प्रयास करें, बच्चों को ना उठाना पड़े। पुलिस अधीक्षक ने कहा हमें कलेक्टर, एसपी अधिकारी बनने की वजाय हमें एक अच्छा इंसान बनना होगा। अपनी बात समाप्त करते हुए एक कविता पेश की “ ऐसा मत बनो की तुमसे मिल दुखी हो जाये——– ” “पारस बनो ताकि तुमसे मिलकर पत्थर सोना हो जायें”। कार्यक्रम में अन्य वक्ताओं ने भी अपने विचार व्यक्त किये और श्रद्धासुमन अर्पित किये। कार्यक्रम में जनप्रतिनिधि, पंचायत प्रतिनिधि, अधिकारी, गणमान्य नागरिक, सम्मानीय मीडिया प्रतिनिधि के अलावा विभिन्न समाजों के प्रतिष्ठित जन मौजूद थे।

वित्तमंत्री मलैया बैशाखी पर्व में हुये शामिल गुरूद्वारा पहुंचकर लिया आशीर्वाद

दमोह-  खालसा साजना दिवस (बैशाखी) पर्व पर आज प्रदेश के वित्त, वाणिज्यिक कर मंत्री जयंत कुमार मलैया स्थानीय गुरूद्वारा पहुंचे और गुरू ग्रंथ साहेब से आशीर्वाद लेकर सभी को बैशाखी की बधाई दी। इस अवसर पर सिक्ख समाज द्वारा मंत्री मलैया के साथ नगर पालिका अध्यक्ष मालती असाटी, भाजपा जिलाध्यक्ष देवनारायण श्रीवास्तव तथा विक्की गुप्ता का हरविंदर सिंह राजपाल ने सिरोपाओ भेंट कर स्वागत किया।
बैशाखी के इस पावन पर्व पर गुरूद्वारे में दिलप्रीत सिंह और साथियों द्वारा सबद (गुरूवाणी) का गायन किया और सर्वत्र के भले के लिये अरदास की गई। कार्यक्रम का संचालन हरभजन सिंह जी बग्गा ने किया।
इस अवसर पर परमजीत सिंह आनंद, राजेन्द्र सिंह बग्गा, गोविंद सिंह बग्गा, हरभजन सिंह बग्गा, कैप्टिन वाधवा, रमन खत्री, पवन तिवारी, बृजगर्ग सहित सिक्ख समाज के नागरिकों एवं महिलाओं ने एक दूसरे को बैशाखी पर्व की बधाईयां दी और लंगर वितरण किया गया।

एक मई से सभी जिलों में होंगी विकास यात्राएं

किसानों के खातों में भुगतान राशि तत्काल ट्रांसफर होगी

भोपाल-मुख्यमंत्री  शिवराज सिंह चौहान ने गेहूँ, चना, सरसों और मसूर की तत्काल खरीदी करने और किसानों के खातों में भुगतान राशि अविलम्ब जमा कराने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा है कि किसानों को किसी प्रकार की असुविधा नहीं होना चाहिए। उन्हें खरीदी केंद्र तक जाने के लिए ज्यादा दूरी तय नहीं करना पड़े। यदि आवश्यक हो, तो खरीदी केन्द्रों की संख्या भी बढायें।  चौहान आज मंत्रालय में संभागायुक्तों और जिला कलेक्टरों से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से चर्चा कर रहे थे।

 मुख्यमंत्री कृषि समृद्धि योजना को किसानों के लिये ऐतिहासिक योजना बताते हुए कहा कि सात लाख से ज्यादा गेंहू उत्पादक  किसानों और 2.82 लाख धान उत्पादक किसानों के खातों में 1700 करोड़ रूपये से ज्यादा राशि दी जायेगी। यह राशि पिछले साल समर्थन मूल्य पर खरीदे गये 67 लाख 21 हजार मीट्रिक टन गेहूँ पर 200 रूपये प्रति क्विंटल अतिरिक्त रूप से दी जा रही है। उन्होंने कहा कि किसानों के हित में यह ऐतिहासिक निर्णय है। अतिरिक्त राशि वितरण की शुरूआत 16 अप्रैल को शाजापुर जिले से होगी। इस कार्यक्रम की सभी जिलों की मंडियों में देखने के लिये सीधे प्रसारण की व्यवस्था की गई है।  चौहान ने कहा कि किसानों के लिये इस दिन उत्सव का माहौल होगा। प्रदेश के इतिहास में पहली बार ऐसा अवसर आ रहा है। उन्होंने बताया कि इसी प्रकार धान उत्पादक किसानों को 200 रूपये प्रति क्विंटल अतिरिक्त राशि के भुगतान का वितरण बालाघाट जिले के वारासिवनी से 15 अप्रैल को होगा। करीब 72 हजार धान उत्पादक किसानों को 57 करोड़ 87 लाख रूपये से ज्यादा का भुगतान किया जायेगा।

मुख्यमंत्री  ने कहा कि चना, सरसों और मसूर की खरीदी पर भी मुख्यमंत्री किसान समृद्धि योजना के अंतर्गत 100 रूपये प्रति क्विंटल अतिरिक्त राशि दी जायेगी। इसी प्रकार इस वर्ष खरीदे गये गेहूँ पर 265 रुपये प्रति क्विंटल अतिरिक्त प्रोत्साहन राशि पर का वितरण 10 जून से किया जायेगा।

किसानों के खातों का सत्यापन करें: मुख्यमंत्री ने संभागायुक्तों और कलेक्टरों को निर्देश दिये कि वे किसानों के खातों का सत्यापन करवा लें ताकि उनके खातों में राशि देने में अड़चन नहीं आये। मुख्यमंत्री ने प्रदेश में गेहूँ और अन्य उपज की सरकारी खरीद के लिये की गई प्रभावी व्यवस्थाओं के लिये संबंधित अधिकारियों-कर्मचारियों की सराहना करते हुए कहा कि खरीदी की व्यवस्था पूरे देश में अनुकरणीय है। उपार्जन में तेजी लाना जरूरी है, ताकि उपज का अविलम्ब भण्डारण हो जाये और किसानों के खातों में पैसे पहुंच जायें। चौहान ने कहा है कि प्रदेश के सभी जिलों में एक से दस मई तक विकास यात्राओं का आयोजन होगा।

 चौहान ने मध्यप्रदेश असंगठित श्रमिक कल्याण योजना की चर्चा करते हुए कहा कि यह योजना श्रमिकों के जीवन में सुखद परिवर्तन लाने वाली योजना है। उन्होंने बताया कि इस योजना में अब तक एक करोड़ से ज्यादा श्रमिकों का पंजीयन हो चुका है।  चौहान ने बताया कि असंगठित क्षेत्र के श्रमिकों को लाभ देने की इस योजना की शुरूआत खरगोन से 17 अप्रैल को होगी। इस दौरान श्रमिकों को पंजीयन प्रमाण पत्र वितरित किये जायेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में भू-खंड अधिकार अभियान भी चलाया जायेगा।

बुन्देली महोत्सव में 24 अप्रैल को रोजगार मेला का आयोजन

दमोह-मध्यप्रदेश शासन द्वारा युवाओं के उत्थान एवं स्वरोजगार स्थापित किये जाने के उद्देश्य से 24 अप्रैल को तहसील ग्राउण्ड दमोह रोजगार मेला एवं कौशल विकास के लिए शासन की विभिन्न विभागों द्वारा वृहत आयोजन किया गया है। इस संबंध में शासन द्वारा संचालित मुख्यमंत्री आर्थिक कल्याण, मुख्यमंत्री स्वरोजगार, युवा उद्यमी योजना, प्रधानमंत्री रोजगार योजना, सृजन कार्यक्रम आदि के अंतर्गत युवा स्वरोजगारी कैसे योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं, के संबंध में विभिन्न विभागों द्वारा बुन्देली महोत्सव में जानकारी उपलब्ध कराई जायेगी।
इसी प्रकार शासन द्वारा कौशल उन्नयन के माध्यम से तकनीकी प्रशिक्षण उपरांत रोजगार स्थापित कराने के लिए किये जा रहे, प्रयासों की जानकारी ग्रामीण स्व-रोजगार प्रशिक्षण संस्था (आर.आरसेटी), प्रधानमंत्री कौशल विकास प्रशिक्षण केन्द्र, उद्यमिता विकास केन्द्र सेडमैप एवं आईटीआई के द्वारा उपलब्घ कराई जायेगी।
बुन्देली गौरवन्यास के साथ मेला आयोजन में युवा स्वरोजगारियों प्रधानमंत्री मुद्रा योजना तहत बैंकों से ऋण उपलबध कराने के प्रयास किये जा रहे हैं। इस संबंध में बुन्देली गौरव न्यास द्वारा सभी बैंकर एवं संबंधित विभागों को संयुक्त बैठक में आयोजन की रूपरेखा तैयार की जायेगी। जिसमें भारतीय स्टेट बैंक के प्रतिनिधि लीड बैंक अधिकारी श्री शर्मा ने 24 अप्रैल को आयोजित होने वाले स्व-रोजगार मेले में स्वरोजगारियों को मुद्रा योजना का लाभ दिलाये जाने के संबंध में आश्वस्त किया है। उन्होंने कहा योजना का लाभ कैसे  प्राप्त किया जा सकता है, की जानकारी लीड बैंक अधिकारी द्वारा उपलब्ध कराई जायेगी।
जिले में प्रधानमंत्री कौशल प्रशिक्षण केन्द्र, उद्यमिता विकास केन्द्र सेडमैप आरसेटी, ग्रा.स्व.संस्थान आरसेटी एवं आईटीआई से तकनीकी प्रशिक्षण प्राप्त करने के पश्चात कैसे अपना स्वरोजगार स्थापित कर सकते हैं। संबंधितो को संस्थाएं, जानकारी देंगे। साथ ही मेले में स्वरोजगार स्थापित कराने के लिए विभिन्न कम्पनियों द्वारा मौके पर ही युवाओं का साक्षात्कार लेकर उनकी योग्यतानुसार नौकरियां भी उपलब्ध करायई जायेगी। मेले के आयोजन में सभी बैंकर्स, लीड बैंक अधिकारी तथा शासकीय विभाग के प्रतिनिधि उपस्थित रहकर कार्यक्रम में अपना सहयोग देगे।

उपसंचालक ने आज जिले की शालाओं का किया निरीक्षण

अनुपस्थित कर्मचारियों को जिला शिक्षा अधिकारी ने किये नोटिस जारी 

दमोह-लोक शिक्षण संचालनालय के उपसंचालक ओ.आई.सी. एस.के.नेमा, ने आज जिले की शालाओं का निरीक्षण किया और कक्षा 9वीं में प्रवेश, एप्टीट्यूट टेस्ट, ब्रिज कोर्स टेस्ट, सायकिल वितरण एवं छात्र हितग्राही योजनाओं की समीक्षा की। निरीक्षण के दौरान विद्यालयों में अनियमितताएँ पाये जाने पर प्राचार्य आर.पी.बड़ौनिया शा.उ.मा.वि.नवीन हटा, आर.के.पाठक व्याख्याता शा.उत्कृष्ट विद्यालय हटा, पी.एल.अहिरवार प्राचार्य, तखत सिंह लोधी, जगदीश पाठक, गुरूदयाल पाठक अध्यापक शा.हाईस्कूल सोजना, एन.के.श्रीवास्तव व्याख्याता, सुनीता प्रजापति अध्यापक शा.उत्कृष्ट विद्यालय पटेरा अनुपस्थित पाये गये। इन अनुपस्थित कर्मचारियों को जिला शिक्षा अधिकारी ने नोटिस जारी किये एवं वेतन काटने के निर्देश आहरण संवितरण अधिकारी को दिये गये हैं।
जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा शा.उ.मा.वि.हिण्डोरिया, कन्या उ.मा.वि.हिण्डोरिया, शा.हाईस्कूल सोंजना, शा.हाईस्कल राजावंदी तथा शा.हाईस्कूल समन्ना का निरीक्षण कर आवश्यक निर्देश दिये गये।